Know the Right Way to Eat Curd For Many Health Benefits

By | January 20, 2021
Know the Right Way to Eat Curd For Many Health Benefits

नहीं भारतीय खाने का अटूट हिस्सा है। जब्बा ताकत की आती है तो दही को सर्वश्रेष्ठ होश में रखा जाता है। हद से भी ज्यादा लोग बैंकों के खाते हैं जिसकी वजह से इस्तीफा देने के बजाय पिंपल्स फॉर कॉन्स्टिपेशन गैस एसिडिटी का प्रॉब्लम को आमंत्रण दुख की बात यह है कि लोग इतने हेल्दी फूड को खाने के बावजूद भी उसका फायदा लेना तो दूर बल्कि बॉडी को नुकसान पहुंचाते हैं। इसलिए आप जानना चाहते हैं।

दही खाने का सही तरीका तो देखो हेलो फ्रेंड्स वेलकम टो फिट ट्यूबर हिंदी में कोटेशन में हेल्प करते हैं। लेकिन रोज दही खाने से भी लोगों की प्रॉब्लम ठीक नहीं होती और मजबूरन उन्हें शोक और प्रोबायोटिक सप्लीमेंट्स लेने पड़ते हैं। एनिमल प्रोडक्ट है और बैक्टीरिया होते हैं इसलिए खास ध्यान देना चाहिए। खाते हुए आप हैरान हो जाएंगे। यह जानकर कि कितने सटीक ढंग से आयुर्वेदिक ग्रंथों में दही को खाने का सही ढंग बताया गया है और आज बहुत ही कम लोग इसे जानते हैं। इस वीडियो में मैं आपसे शेयर करना चाहता हूं कि आप दही को गलत तरीके से खा रहे हैं और कैसे इसे ठीक करें। इस वीडियो को एंड तक देखने से आपको पता चल जाएगा कि कब कैसे और कौनसी दही खाएगा। मिक्सिंग बरसात दही में नमक या चीनी मिलाकर खाना चाहिए।

 

Know the Right Way to Eat Curd For Many Health Benefits

नई कॉमेडी या नमकीन दोनों तरीके से खाया जा सकता है, लेकिन कभी भी इसमें टेबल साल्ट और टेबल छूकर ना डालें। एक्टिव दोनों को ही केमिकल किया जाता है। जिस वजह से यह प्रोवाइड दिया इसके न्यूट्रीशन को कम करते हैं। अगर आपने दही में टेबल सॉलिटेयर टेबल छूकर डाल दे। फिर तो यह बस आपका पेट ही बनेगी। फायदा नहीं होगा तो क्या करें। बड़ा आसान है आपको बस टेबल साल्ट!

बिना नमक या काला नमक से रे प्रेस करना है और सफेद चीनी को शक्कर या मिश्री के साथ रिप्लेस कर दें तो पड़ता ही है लेकिन वही के पोषक तत्व के कम नहीं होते, लेकिन मीठा नमकीन, दलिया, प्रीति और नमकीन दोनों वर्जन स्कोर अपनी डाइट में ही क्लोज कर सकते हैं। हालांकि अगर एसिडिटी ब्लीडिंग उसको पेश कर रहे हैं तो मीठी दही बैटर है। अगर आप गैस बॉडी पेन सोगारा फेस कर रहे हैं तो नमकीन बेटा नंबर 6 को रात में खाना नहीं। अब हमारे खाने का इतना अटूट हिस्सा बन चुकी है कि अब हम इसे कभी भी खा लेते हैं। यह सोचती तो फायदा ही देरी यह सच नहीं है। वो कभी सूर्यास्त के बाद नहीं खाना चाहिए। आयुर्वेद बताता है कि जब सूर्य अस्त होता है तो वह नहीं का टेंपरेचर नेचुरल कम हो जाता है। बढ़ने लगता है जो कि कब वर्धक है। अभी शादी है तो रात को।

 

How We Eat Curd

हनी सिंह की ब्लॉकेज बढ़ा सकती है। सर्दी जुकाम साइनस बुखार का ब्लॉकेज के कुछ सिम्टम्स हो सकते हैं। लेकिन अगर आपको रात को दही जैसा कुछ खाने का मन करे तो आप जा सकते हैं। जरूरी दही से ही बनती है, लेकिन इसकी प्रॉपर्टीज बहुत अलग है। इसमें थोड़ी सी काली मिर्च और सेंधा नमक डालने तो फिर यह रात को दही का बेस्ट प्लेसमेंट है। नंबर 5 दहीगोरा नहीं, मिथुन की लाइट एरिया होते हैं तो ऐसे पूछो कंबाइन करते हुए खास ध्यान देना चाहिए जो कि अगर गलती से भी कॉमिनेशन उल्टा पड़ गया तो बॉडी में टॉक्सिन क्रिएट होते टाइम नहीं लगता। डोमिनेशंस हीरे का रास्ता और बूंदी रायता मेरा फेवरेट पता है। जिस वजह से स्किन प्रॉब्लम्स परिवर्तन हो सकता है। बूंदी की मीटिंग होती है तो दही के विरुद्ध है और इससे बॉडी में चर्बी बढ़ती है।

रिप्लेस किया जा सकता है, उतना ही टेस्टी लगता है। पचने मे हल्का है और बहुत ही पौष्टिक है और दूध को कभी भी साथ नहीं खाना चाहिए। जहां दही और दूध को मिला देते हैं। इसके लिए ठीक नहीं है। अमिनेशन सही तो आपको हर हालत में अवार्ड करने का नंबर 4 दही को स्किन प्रॉब्लम है। क्या आपको अक्सर ही पिंपल्स होते हैं, एक रीजन हो सकता है। रोजाना। अगर आपको मुंहासे और खुजली की दिक्कत रहती है तो नहीं खाते हुए सावधानी बरतें। वैसे तो ऐसी कंडीशन में बेस्ट होगा। अगर दही को अवॉइड करें। प्रॉब्लम खड़ी हो जाती है। उसकी तस्वीर और भी गर्म हो जाती है और जाहिर है। इससे प्रॉब्लम्स बड़े की प्रॉब्लम से ऑलरेडी परेशान है तो कुछ दिन के लिए दुआ करें। तो बिल्कुल ताजी!

 

Right Way to Eat Curd

मीठी होती है और उसे भी अच्छे से चम्मच से मिला लें ताकि और भी ठंडी हो जाए। ऐसे जोड़ों के दर्द में भी अवार्ड करना चाहिए। अगर खाना चाहते हैं तो इसमें थोड़ी संडे को गर्म करके खाना। आजकल हम दही हिंदी में यह सोचकर सब्जी बनाते हुए यह मेरी नेट करने के लिए इस्तेमाल करने लग गए हैं। ऐसा बिल्कुल नहीं करना चाहिए। सब्जी बनाते हुए नहीं डालने से भले ही अच्छी बनती हो, लेकिन बॉडी के लिए टाइम है। पहले तो कर्म करते ही बैक्टीरिया मर जाते हैं। न्यूट्रिशन कम हो जाता है। इसकी तासीर और गर्म हो जाती है। मुश्किल पढ़ते हैं और इसके केमिकल कौन से टूट जाते हैं। इसको खाने से एलर्जी हो सकती हैं और सब्जी के लिए बाकी हिंदी अल्टरनेटर यूज किए जा सकते हैं। नंबर दो बैक्टीरिया होने के बावजूद भी लोग इन सुपौल प्रोवाइडेड ड्रिंक्स और गोलियों पर डिपेंड करते हैं जो एक मार्केटिंग गिरने से ज्यादा कुछ नहीं है। इनमें इतनी मर मर के जीने डाली जाती है कि डाइजेशन की। ना तो थोड़ा वजन बढ़ने लगता है, इसलिए नहीं जाती थी। आपको पता चले कि अगर आप सिर्फ दही कोई सही तरीके से खा ले तो इससे बेहतर और कोई प्रो बाइक सप्लीमेंट क्या होगा। स्टेशन प्रॉब्लम है तो बस इतना करो खाली पेट ब्रेकफास्ट से आधे घंटे पहले एक कटोरी दही ने मिश्री पाउडर शहद शक्कर डालकर को ऐड करने से इतनी जल्दी बता कितनी कल चीनी इसका क्या है?

 

मुकाबला करेगी। हफ्ते में दो-तीन बार खा लो का फालतू इन सप्लीमेंट्री पैसा बर्बाद ना करें। नंबर 1 रोशन खान के पूरे 12 महीने में खाना चाहिए। इससे फूल की तरह समझना होगा। आयुर्वेदिक टैक्स कहते हैं कि दही को खाने का बेस्ट टाइम सर्दियों में है और सबसे खराब टाइम है। बारिश होती तो वह समय होता है। जब दोस्त बड़े होते हैं। बॉडी का पाचन मन होता है और वातावरण में नमी मिक्स मौत होती है। जब बहुत नमी हो तो दही बिल्कुल आना है। बारिश में दही खाने से टॉक्सिंस बनते हैं जिससे एलर्जी हो सकते हैं। दोस्तों यदि कुछ बहुत ही कॉमन सी मिस्टेक जो हम लोग नहीं खाते हुए करते हैं। आइए जल्दी से डिस्कस कर लेते हैं कि कब कैसे और कौनसी दही बेस्ट है। दही का भाई रोज खाने वाली चीज नहीं सर्दियों में बेस्ट है। बारिशों में बहुत है और गर्मियों में सही है। डेंगू सूर्यास्त से पहले कभी भी दिन में खाया जा सकता है। दही कैसे खाएं जो शेष कर रहे हैं और दही को उठाना चाहते हैं तो सुबह खाली पेट के पास से पहले हिंदी से तमिल आते हैं और अगर आप दही को न्यूट्रिशन और बॉडी स्ट्रैंथ के लिए खाना चाहते हैं तो ब्रेकफास्ट एंड लंच में खा सकते हैं। इसे खाने से देश में पड़ता है। कौन सी गाय देसी गाय के दूध से बनी थी जो फ्रेश हो, घर पर मिट्टी के बर्तन में बनी हो ना रखी गई हो तो सेक्स फुल पावर ताकत, स्टेमिना और प्राण शक्ति को बढ़ाती है और कितनी आसान है बनाने वाले ने जो थोड़ा थोड़ा अच्छे से मिला दे।

Health Benefits of Curd Eating in Right Way

गर्मी से कुछ ही घंटों में दही बन के तैयार हो जाए। कहीं के ऊपर जो पानी आ जाता है, उसे बिल्कुल ना भेजें। इससे शरीर की नारियां खोलते हैं। दोष कम होता है लेकिन पित्त और कफ दोष बढ़ता है। इसलिए जो लोग वेट बढ़ाना चाहते हैं, उनके लिए दही औषधि है, लेकिन अगर वेट कम करना है तो कम मात्रा में खाएं स्किन प्रॉब्लम्स, अर्थराइटिस और सही को सावधानी सिखाएं। जैसे कि हमने पहले डिस्कस किया से भरपूर फास्फोरस, प्रोबायोटिक्स, अमीनो, एसिड्स, कामोद्दीपक और बलवर्धक सुपर थे। आप इसे सही तरीके से दोस्तों अगर आपको यह वीडियो बिल्कुल लगे तो प्लीज लाइक जरुर कर देना। अगर आप एक प्लांट खरीदने की सोच रहे हैं। मार्केट में फांसी एक ही बातों में गाती मल्टीविटामिन से अलग हो जी वाकई यह प्रोडक्ट नहीं खाते और उम्मीद सप्लीमेंट।

दूसरी अच्छी बात यह है कि मुझे अपने हर एक विटामिन और ओमेगा 3 का शोर सपने इंग्लिश इंग्लिश में मेंशन किया है जो इस प्रोडक्ट को और भी ट्रस्टेबल बना देता है। उसने है मल्टीबाइट रमेश फ्री एंटी ऑक्सीडेंट फार्मूला है। दुआ 3 मिनट स्कैन ब्रेन और हार्ट हेल्थ के लिए कमेंट करती है। यह कैप्सूल 30 मिनट ऑनलाइन चले ना कि आप इन कैप्सूल खाने से पहले फिर भी एक बार डॉक्टर से जरूर करें। ई कैप्सूल बॉक्स में दिए लिंक को क्लिक कीजिए। दोस्तों इस वीडियो में इतना ही अब आप मेरे काम को ज्वाइन बटन क्लिक करके भी सपोर्ट कर सकते हैं और वीडियो डालो आपको पता चलता है। आप मुझे इंस्टाग्राम पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *